शायरी ४ लाइन में – आज दिन ईद



आज दिन ईद, क्या करे कोई,
लग गई नींद क्या करे कोई
जिसकी सूरत नज़र नहीं आती
उनसे उम्मीद क्या करे कोई।

बेस्ट ४ लाइन शायरी – कोई भी गीत हो

कोई भी गीत हो मुझसे बिना गाया न रहा
मिले किसे भी वह मुझको बिना पाया न रहा
मेरे सगे मेरे अपने हुए हो तुम ज्ब से
मुझको दुनिया में कहीं कोई पराया न रहा ।


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…


हिंदी शायरी ४ पंक्ति में – कहानी से कभी दुनिया

कहानी से कभी दुनिया में अफ़साने नहीं बनते
जवानी और सुन्दरता से दीवाने नहीं बनते
जिसे भगवान चाहे उसके मन में ज्योति जलती है
चिरागों के बनाने से तो परवाने नहीं बनते।


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…


शायरी ४ लाइन में – आज भले ही पत्थर

आज भले ही पत्थर बनकर तू मुझको ठुकराएगी
मुझे छोड़कर किसी और के सपने में तू आएगी
तुझे जितना हो तू कर ले लेकिन ये भी सुन लेना
मैं तो पनघट तक ही आया, तू मरघट तक जाएगी।

बेस्ट ४ लाइन शायरी – कोई अच्छी सी सज़ा

कोई अच्छी सी सज़ा दो मुझको,
चलो ऐसा करो भूला दो मुझको,
तुमसे बिछडु तो मौत आ जाये,
दिल की गहराई से ऐसी दुआ दो मुझको


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…


1 2 3 4