Sher O Shayari 2 Lines – कभी लतीफ़ा

कभी लतीफ़ा, कभी क़हक़हा ,कभी महफ़िल
बस एक उसको भुलाने के लिए जतन क्या क्या…