Shayari 2 Line Mein – यूँ ही कम है ज़िंदगी

यूँ ही कम है ज़िंदगी मोहब्बत के लिए,
रूठ कर वक्त गवाने की ज़रुरत क्या है