Shayari 2 Line Mein – कबूल करो मुझे

कबूल करो मुझे, बिना आजमाए हुए,
फ़राज़
कि.. हीरा परखे बगैर भी, हीरा ही होता है…….