Shayari 2 Line Mein – इक आग

इक आग ग़म-ए-तन्हाई की जो सारे बदन में फैल गई,
जब जिस्म ही सारा जलता हो फिर दामन-ए-दिल को बचाएँ क्या.