New Hindi Shayari 2017 – किताबों की तरह हैं

किताबों की तरह हैं हम भी….
अल्फ़ाज़ से भरपूर, मगर ख़ामोश….!!