New Hindi Shayari 2017 – इक ज़ख़्मी परिन्दे

इक ज़ख़्मी परिन्दे की तरह जाल में हम हैं,
ऐ इश्क़ अभी तक तेरे जंजाल में हम हैं