Latest Hindi Shayari 2017 – हैं सब के दुख एक से

हैं सब के दुःख एक से, मगर होसलें हैं जुदा-जुदा…
कोई टूट कर बिखर गया.. . कोई मुस्कुरा कर चल दिया..