Latest Hindi Shayari 2017 – क़सूर उनका नहीं

क़सूर उनका नहीं,जो मुझसे दूरियाँ बना लेते है….
रिवाज है ज़माने में,पढ़ी किताबें ना पढ़ने का.