Hindi Shero Shayari 2 Lines – न जाने कब खर्च हो गये

न जाने कब खर्च हो गये, पता ही न चला,
वो लम्हे, जो छुपकर रखे थे जीने के लिए…