Hindi Sher O Shayari – हर चन्द राख हो के

हर चन्द राख हो के बिखरना है राह में
जलते हुए परों से उड़ा हूँ मुझे भी देख