Hindi Sher O Shayari – हज़ार बर्क़ गिरे

हज़ार बर्क़ गिरे लाख आँधियाँ उट्ठें
वो फूल खिल के रहेंगे जो खिलने वाले हैं