Hindi Sher O Shayari – आरजू है या इबादत

आरजू है या इबादत अब कुछ समझ नहीं आता
एक खुबसूरत ख्याल हो तुम जो दिल से नहीं जाता