Hindi Shayari Two Lines – हवा ख़फ़ा थी

हवा ख़फ़ा थी मगर इतनी संग-दिल भी न थी
हमीं को शम्अ जलाने का हौसला न हुआ