Hindi Shayari Two Lines – सुब्ह होते ही निकल

सुब्ह होते ही निकल आते हैं बाज़ार में लोग
गठरियाँ सर पे उठाए हुए ईमानों की
अहमद नदीम क़ासमी