Hindi Shayari Two Lines – सब ख़्वाहिशें पूरी हों

सब ख़्वाहिशें पूरी हों ‘फ़राज़’ ऐसा नहीं है
जैसे कई अशआर मुकम्मल नहीं होते