Hindi Shayari Two Lines – रकौन ताक़ों पे हा

रकौन ताक़ों पे हा कौन सर-ए-राहगुज़र
शहर के सारे चराग़ों को हवा जानती है