Hindi Shayari Two Lines – मय कदा है

मय-कदा है यहाँ सकूँ से बैठ
कोई आफ़त इधर नहीं आती