Hindi Shayari Two Lines – ना महीनों की गिनती

ना महीनों की गिनती, ना सालों का हिसाब हैं
मोहब्बत आज भी तुझसे बेइंतहा, बेहिसाब हैं..