Hindi Shayari Two Lines – इल्म में दीमक से बढ़

इल्म में दीमक से बढ़ कर क़ामयाब कोई नहीं,
चाट जाता है किताबें इम्तिहाँ कोई नही