Hindi Shayari By Ahmad Faraz – सौ बार मरना चाहा

सौ बार मरना चाहा निगाहों में डूब कर ‘फ़राज़’
वो निगाह झुका लेते हैं हमें मरने नहीं देते