Hindi Shayari By Ahmad Faraz – मेरे लफ़्ज़ों की पहचान

मेरे लफ़्ज़ों की पहचान अगर कर लेता वो फ़राज़
उसे मुझ से नहीं खुद से मुहब्बत हो जाती