Hindi Shayari By Ahmad Faraz – मेरे दोस्तों की पहचान

मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुशिकल नहीं “फराज”
वो हँसना भूल जाते हैं मुझे रोता देखकर