Hindi Shayari By Ahmad Faraz – मुझ से हर बार

मुझ से हर बार नज़रें चुरा लेता है वो ‘फ़राज़’,
मैंने कागज़ पर भी बना के देखी हैं आँखें उसकी