Hindi Shayari By Ahmad Faraz – मिली सज़ा जो

मिली सज़ा जो मुझे वो किसी खता पे नहीं “फराज़”
मुझ पे जुर्म साबित हुआ जो वफा का था