Hindi Shayari By Ahmad Faraz – ज़िन्दगी तो अपने

ज़िन्दगी तो अपने कदमो पे चलती है ‘फ़राज़’
औरों के सहारे तो जनाज़े उठा करते हैं