Hindi Shayari By Ahmad Faraz – घर से निकले थे

घर से निकले थे कि दुनिया ने पुकारा था ‘फ़राज़’
अब जो फुर्सत मिले दुनिया से तो घर जाएँ कहीं