Hindi Shayari By Ahmad Faraz – घर से निकले थे



घर से निकले थे कि दुनिया ने पुकारा था ‘फ़राज़’
अब जो फुर्सत मिले दुनिया से तो घर जाएँ कहीं


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…


Leave a Reply