Hindi Shayari By Ahmad Faraz – कितना आसाँ था

कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मरना जानाँ
फिर भी इक उम्र लगी जान से जाते जाते