Hindi Shayari By Ahmad Faraz – उंगलियाँ आज तक

उंगलियाँ आज तक इसी सोच में गुम हैं “फ़राज़”
उसने कैसे नए हाथ को थामा होगा