Hindi Shayari By Ahmad Faraz – इतना तसलसुल तो

इतना तसलसुल तो मेरी साँसों में भी नहीं ‘फ़राज़’
जिस रवानी से वो शख्स मुझे याद आता है