Hindi Shayari By Ahmad Faraz – अहसास के अंदाज

अहसास के अंदाज बदल जाते हैं “फराज़”
वरना आँचल भी उसी धागे से बनता है और कफन भी