Hindi Shayari 2 Lines – जिन्दगी जला दी



जिन्दगी जला दी हमने जब जलानी थी…
अब धुएँ पर तमाशा क्यों और राख पर बहस कैसी….


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…