Hindi Poetry In 2 Lines – निगह बुलंद सुख़न दिल



निगह बुलंद सुख़न दिल-नवाज़ जाँ पुर-सोज़
यही है रख़्त-ए-सफ़र मीर-ए-कारवाँ के लिए


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…