Hindi Poetry In 2 Lines – दिये जो जख़्म

दिये जो जख़्म ,तो मरहम की तकल्लुफ ना करो,
कुछ तो रहने दो एहसान अपने…