Hindi Poetry In 2 Lines – गुनाह गिन के मैं

गुनाह गिन के मैं क्यूँ अपने दिल को छोटा करूँ,
सुना है तेरे करम का कोई हिसाब नहीं।