Hindi Mein 2 Line Shayari – मजबूरियां ओढ़ के

मजबूरियां ओढ़ के निकलता हूँ घर से,
वर्ना शौक तो अब भी है
बारिशों में भीगने का….!!