Ahmad Faraz Shayari – ये वफ़ा तो



ये वफ़ा तो उन दिनों की बात ही “फ़राज़”
जब लोग सच्चे और मकान कच्चे हुआ करते थे


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…


Ahmad Faraz 2 Lines Shayari – ज़माने के सवालों को मैं

ज़माने के सवालों को मैं हँस के टाल दूँ फ़राज़
लेकिन नमी आखों की कहती है “मुझे तुम याद आते हो”


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…


Ahmad Faraz Sher O Shayari – इस तरह गौर से मत देख

इस तरह गौर से मत देख मेरा हाथ ऐ फ़राज़
इन लकीरों में हसरतों के सिवा कुछ भी नहीं


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…


Ahmad Faraz Sher O Shayari – तपती रही है

तपती रही है आस की किरणों पे ज़िन्दगी
लम्हे जुदाइयों के मा – ओ साल हो गए

प्यार में एक ही मौसम है बहारों का “फ़राज़”
लोग कैसे मौसमों की तरह बदल जाते है

Ahmad Faraz Famous Shayari – बहुत अजीब है ये बंदिशें

बहुत अजीब है ये बंदिशें मुहब्बत की ‘फ़राज़’
न उसने क़ैद में रखा न हम फरार हुए


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…


1 2 3 14