Best Ahmad Faraz Shayari – हजूम ए दोस्तों से



हजूम ए दोस्तों से जब कभी फुर्सत मिले
अगर समझो मुनासिब तो हमें भी याद कर लेना


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…