Best Ahmad Faraz Shayari – कभी कभी तो रो पड़ती हैं

कभी कभी तो रो पड़ती हैं यूँ ही आँखें
उदास होने का कोई सबब नहीं होता