Best 2 Lines Shayari – मेरी तलब पे

मेरी तलब पे तो हैरान है आसमा भी…
के मैंने चाँद नही उस का दाग माँगा है