Anmol Vachan Hindi Mein – दौलत नहीं

दौलत नहीं, शोहरत नहीं, न वाह चाहिए !
कैसे हो..? “बस दो लफ्ज़ों की परवाह चाहिए !.