Ahmad Faraz Sher O Shayari – मैंने माँगी थी उजाले की

मैंने माँगी थी उजाले की फ़क़त इक किरन फ़राज़
तुम से ये किसने कहा आग लगा दी जाए