Ahmad Faraz Sher O Shayari – बच न सका ख़ुदा भी

बच न सका ख़ुदा भी मुहब्बत के तकाज़ों से फ़राज़
एक महबूब की खातिर सारा जहाँ बना डाला