Ahmad Faraz Shayari – हमारे सब्र की इंतहां

हमारे सब्र की इंतहां क्या पूछते हो “फ़राज़”
वो हम से लिपट के रो रहे थे किसी और के लिए