Ahmad Faraz Shayari – समंदर में ले जा

समंदर में ले जा कर फरेब मत देना “फराज़”
तू कहे तो किनारे पे डूब जाऊं मैं