Ahmad Faraz Shayari – वो बाज़ाहिर तो मिला था



वो बाज़ाहिर तो मिला था एक लम्हे को फ़राज़
उम्र सारी चाहिए उसको भुलाने के लिए


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…