Ahmad Faraz Shayari – वफायें कोई हमसे

वफायें कोई हमसे सीखे “फ़राज़”
जिसे टूट के चाहा उसे खबर भी नहीं