Ahmad Faraz Shayari – ये वफ़ा तो



ये वफ़ा तो उन दिनों की बात ही “फ़राज़”
जब लोग सच्चे और मकान कच्चे हुआ करते थे


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…