Ahmad Faraz Shayari – मेरे सजदों में कमी तो न थी

मेरे सजदों में कमी तो न थी “फ़राज़”
या मुझ से भी बढ़कर के किसी ने उसको माँगा था खुदा से