Ahmad Faraz Shayari – दोस्ती अपनी भी

दोस्ती अपनी भी असर रखती है फ़राज़
बहुत याद आएँगे ज़रा भूल कर तो देखो